Friday, May 17, 2024
Homeपर्यटक स्थलबाली की सम्पूर्ण जानकारी और उसका इतिहास

बाली की सम्पूर्ण जानकारी और उसका इतिहास

बाली का इतिहास history of bali

बाली एक प्राचीन शहर है. एक जैन स्क्रॉल जो कर्नल जेम्स टॉड ने सांडेराव में एक जैन गुरु से प्राप्त किया था, बाली शहर की स्थापना का सबसे पहला विवरण देता है। स्क्रॉल में उल्लेख किया गया है कि गुजरात में वल्लभी शहर की बोरी पर , तीस हजार जैन परिवारों ने वल्लभी को छोड़ दिया और अपने पुजारियों के नेतृत्व में मारवाड़ में अपने लिए शरण ली , जहां उन्होंने 524 ईस्वी में सैंड्राओ, बाली और नाडोल शहरों का निर्माण किया।

यह गोडवार का हृदय था 11वीं सदी का क्षेत्र. यह एक ऐसा शहर भी था जहाँ घोड़ों के व्यापार के लिए नियमित घोड़ा मेला आयोजित किया जाता था। राजा सरुबली बलदेव ने 1240 ईस्वी में एक युद्ध में बाली की भूमि जीत ली और उन्होंने इस क्षेत्र को अपनी शाही राजधानी का ताज पहनाया और अपने नाम पर इसका नाम बाली रखा। किंवदंतियों का कहना है कि पांडव बच्चे इस क्षेत्र में बचपन के खेल खेलते थे और एक पानी का कुआं अभी भी मौजूद है , जिसे पांडवों में से एक भीम ने बनाया था। 1608 ई. में राजा बालासिंह ने शहर की सुरक्षा के लिए बाली के किले का निर्माण कराया और हमले से बचाने के लिए शहर के किनारों के चारों ओर एक दीवार बनवाई।

नगर नियोजन प्राचीन ज्यामितीय, ज्योतिषीय और स्थापत्य नियमों पर आधारित है। महान नायक महाराणा प्रताप के पिता राणा उदय सिंह का विवाह बाली में जालौर के राव की बेटी के साथ संपन्न हुआ था।

इस शहर में मार्च 1896 में एक औषधालय स्थापित किया गया था। 1897 में, इसने 17 आंतरिक रोगियों और 4166 बाह्य रोगियों को सेवा प्रदान की और इसमें 318 ऑपरेशन किए गए।

1900 में शहर में प्लेग फैल गया और शहर खाली करा लिया गया। जनवरी 1900 के दौरान दस्त , पेचिश और निमोनिया के परिणामस्वरूप 1245 मौतें हुईं . राजस्थान के गठन से पहले यह पूर्ववर्ती जोधपुर राज्य में इसी नाम के एक जिले का मुख्यालय था। आज़ादी से पहले भी बाली की अपनी नगर पालिका थी। 1932 मैं इसमें एक मिडिल स्कूल था जिसे हाई स्कूल में अपग्रेड किया गया और 1946 में इसमें 200 से अधिक छात्र थे। 1960 में बाली में लड़कों के लिए तीन। प्राथमिक विद्यालय, लड़कियों के लिए एक प्राथमिक विद्यालय और एक हाई स्कूल था। बाली में टेलीफोन 1957 में आया, बिजली 1961 में आई और पाइप से पानी का कनेक्शन 1970 में दिया गया। 1958 में बावरी जाव में बाली के केंद्र में एक तहसील पुस्तकालय की स्थापना की गई। इसके अलावा बाली में एक जैन पुस्तकालय भी है।

बाली गांव में फैमस सीरवी आई माता हिंदू मंदिर में से एक है

बाली का इतिहास/शहर प्रोफ़ाइल

बाली अरावली पर्वतमाला के निकट 25.18° उत्तर 73.28° पूर्व [3] पर स्थित है । यह पाली जिले का एक निर्वाचन क्षेत्र है. इसकी औसत ऊंचाई 298 मीटर (977 फीट) है। इसके पूर्व में अरावली पहाड़ियाँ हैं और कुम्बलगढ़ का किला बाली से दिखाई देता है। इसके उत्तर में दो चट्टानी पहाड़ियाँ हैं जहाँ क्रमशः हिंगलाज माता और दंतीवाड़ा के मंदिर स्थित हैं। मिठारी नदी मौसमी है और केवल बरसात के मौसम में बहती है।

भारतीय रेलवे के नेटवर्क पर पहुंचने के लिए निकटतम रेलवे स्टेशन फालना है , जो बाली से 7 किमी दूर है। निकटतम हवाई अड्डा उदयपुर है ।

बाली का प्रशासन

केंद्र में बाली का प्रतिनिधित्व पाली (लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र) के तहत किया जाता है , जबकि राज्य में इसका प्रतिनिधित्व बाली (राजस्थान विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र) के तहत किया जाता है । वर्तमान विधायक श्री पुष्पेन्द्र सिंह राणावत हैं। यह चतुर्थ श्रेणी की नगर पालिका है। नगर पालिका के लिए 25 वार्ड हैं। वर्तमान में बाली में भाजपा का बोर्ड है और अध्यक्ष श्री अध्यक्ष श्री भरत हैं।

बाली का इतिहास/शहर की जनसंख्या

2011 की भारत की जनगणना के अनुसार, [4] बाली की जनसंख्या 19,880 थी। जनसंख्या में पुरुष 50.67% (10,007) और महिलाएं 49.33% (9,873) हैं। बाली की औसत साक्षरता दर 64.28% है, जो राष्ट्रीय औसत 74.04% से कम है; 74.51% पुरुष और 53.91% महिलाएँ साक्षर हैं। 11.72% जनसंख्या 6 वर्ष से कम आयु की है। 1897 में इसकी जनसंख्या लगभग 6000 थी।

बाली की अधिकांश जनसंख्या जैन और मारवाड़ी समुदाय की है, जो सबसे समृद्ध समुदाय भी है। हालाँकि इस समुदाय के अधिकांश सदस्य भारत में कहीं और बस गए हैं, जहाँ वे व्यवसाय करते हैं और परिवार में विवाह संपन्न करने के लिए ज्यादातर अपने पैतृक शहर जाते हैं।

बाली विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र पाली जिले के छह राजस्थान विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों में से एक है। अतीत में, इसने 1993 और 1998 में पूर्व मुख्यमंत्री भैरों सिंह शेखावत को भी अपना विधायक चुना है ।

बाली में धर्मों का जनसांख्यिकीय वितरण

हिन्दू धर्म 82%
इसलाम 13%
जैन धर्म 3.7%
अन्य♦1.3% इसमें 0.4% ईसाई और 0.2% सिख शामिल हैं वर्षों के दौरान जनसंख्या वृद्धि

बाली में तहसील में गावो की संख्या

बाली तहसील में 39 ग्राम पंचायतों और दो नगर पालिकाओं, फालना और स्वयं के अंतर्गत 93 गाँव हैं । ग्राम पंचायतें हैं अमलिया, बरवा , बेडल, बेरा, भंडार, भाटूंद, भीटवाड़ा, भीमाना, बीजापुर, सेला, बीसलपुर, बोया, चामुंडेरी, ढाणी-सेला, दूदनी, फालना गांव, गोरिया, गुरलास, काकरड़ी, खिमेल, कोटबालियां, कोठार, कोयलवाओ, कुमटिया, संदला, कुरान, लातारा, लुणावा, लुंडारा, मालनू, मिरगेश्वर, मोकम पुरा, मुंडारा, नाना., पाडेरला, पीपला , पेरवा , सीना , सेसली , सेवारी और शिवतलाओ .

बाली में तहसील का क्षेत्रफल लगभग 1304.26 वर्ग किलोमीटर है। 

तहसील की जनसंख्या 2,23,027 (2001 की जनगणना) है। जिनमें से 1,83,802 ग्रामीण हैं जबकि 39,225 शहरी हैं। पुरुषों की संख्या 1,11,572 और महिलाओं की संख्या 1,11,455 है। [10] इस तहसील में जनजातियों की अच्छी आबादी है। मुख्य शिक्षा विद्यालय सरकारी उच्च माध्यमिक है। स्कूल विज्ञान, वाणिज्य और कला स्ट्रीम की शिक्षा प्रदान करता है। 2013 में यहां एक सरकारी विज्ञान मध्यवर्ती विद्यालय की स्थापना हुई थी।” महाविद्यालय स्थापित किया गया था।” यहां 1992 में “द फैबइंडिया स्कूल” की स्थापना की गई थी, जो आज एक सह-शैक्षिक, वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय है जिसमें 40% लड़कियों सहित 1000 छात्र हैं। [11] सुश्री दीपिका टंडन संस्था की प्रमुख हैं।

बाली के प्रमुख आकर्षण:

बाली के इतिहास, संस्कृति, और प्राचीनता के चलते, यह भारत के राजस्थान राज्य के लोगों के बीच खास एहसास पैदा करता है। इस शहर की सुंदरता, ऐतिहासिक धरोहर, और सांस्कृतिक विरासत के कारण, बाली भारतीय और विदेशी पर्यटकों के लिए एक खास स्थान है। यहां कुछ प्रमुख आकर्षण हैं, जो इसे अधिक खास बनाते हैं:

  1. बाली का किला: बाली के किले को इस शहर के सर्वोच्च स्थानों में से एक माना जाता है। यह ऐतिहासिक किला राजस्थान के प्रमुख किलों में से एक है और इसकी विशालकाय दीवारें, महल और मंदिर इसे एक दर्शनीय स्थल बनाते हैं।
  2. धर्मिक स्थल: बाली में कई प्राचीन मंदिर, धार्मिक स्थल और जैन मंदिर स्थित हैं जो धार्मिक भक्तों के लिए आकर्षण का केंद्र बनते हैं। यहां प्रमुख मंदिरों में बाली के नाथजी मंदिर, श्री बालाजी मंदिर, और श्री माँ जगदम्बा मंदिर शामिल हैं।
  3. स्थानीय बाजार: बाली में स्थानीय बाजार भी एक आकर्षण का केंद्र है, जहां आप स्थानीय कला, शिल्पकारी, राजस्थानी शस्त्र-शस्त्र और धार्मिक आभूषण आदि को खरीद सकते हैं।

बाली, राजस्थान के संबंधित आम प्रश्नों का संक्षेपण:

1 बाली क्या है?

उत्तर: बाली राजस्थान, भारत के एक प्राचीन और ऐतिहासिक शहर का नाम है। यह राजस्थान के जिला पाली में स्थित है और मारवाड़ क्षेत्र में आता है।

2 बाली का इतिहास क्या है?

उत्तर: बाली का इतिहास संभवतः 8वीं से 10वीं शताब्दी ईसा पूर्व के दौरान आरंभ हुआ था। इसके इतिहास में मालवा, गुर्जर प्रतिहार और सिंध वंशों के शासनकालों का महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

3 बाली के प्रमुख आकर्षण कौन-कौन से हैं?

उत्तर: बाली के प्रमुख आकर्षण में बाली का किला, बाली के नाथजी मंदिर, श्री बालाजी मंदिर, और श्री माँ जगदम्बा मंदिर शामिल हैं। इनके अलावा स्थानीय बाजार भी पर्यटकों को खींचता है।

4 बाली कैसे पहुंच सकते हैं?

उत्तर: बाली राजस्थान अच्छे रूप से सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है। आप जोधपुर और उदयपुर से बाली पहुंच सकते हैं। जोधपुर बाली की दूरी लगभग 120 किलोमीटर है जबकि उदयपुर बाली की दूरी लगभग 100 किलोमीटर है।

5 बाली का मौसम कैसा होता है?

उत्तर: बाली का मौसम साल के विभिन्न मौसम अवधियों में विभिन्नता दिखाता है। सर्दी में यहां का मौसम ठंडा और शीतल होता है जबकि गर्मी में यहां का मौसम गरम और तपता होता है। मानसून के समय बारिश होती है और प्राकृतिक सौंदर्य और हरियाली की खोज के लिए अच्छा समय होता है।

6 बाली में रहने के लिए होटल कैसे हैं?

उत्तर: बाली में विभिन्न कैटेगरी के होटल उपलब्ध हैं जैसे कि लक्जरी होटल, धार्मिक आश्रम, और बजट होटल। आप अपने बजट और सुविधाओं के अनुसार अपने रहने के विकल्प का चयन कर सकते हैं।

7 बाली में खाने के लिए अच्छे रेस्टोरेंट कहां मिलते हैं?

उत्तर: बाली में कई स्वादिष्ट रेस्टोरेंट और ढाबे हैं जहां आप राजस्थानी और भारतीय व्यंजनों का आनंद उठा सकते हैं। यहां पर तंदूरी, दक्षिण भारतीय, राजस्थानी, और मिठाईयों के साथ-साथ विदेशी खाने का भी विकल्प मिलता है।

बाली  उदयपुर के महाराणा की ‘महारानी’ बालीकुंवरी के नाम से यह बसाया गया था

उदयपुर के महाराणा की ‘महारानी’ बालीकुंवरी के नाम से यह बसाया गया था, इसलिए इसका नाम बाली रखा गया। यह भी किंवदंती प्रचलित है कि बाली नामक चौधरानी ने सर्वप्रथम यहां निवास किया, जिससे इनका नाम बाली पडा। संवत् १२४० में चौहान राजा सर्ववली बालदेव ने युद्ध में विजयोपरांत इस नगर को राजधानी बनाकर स्वयं के नाम पर बाली नामकरण किया। एक अन्य किंवदंती के अनुसार ठाकुर चैनसिंहजी के हृदय महल की स्वामिनी देवासी (रेबारी) जाति की ‘बाली’ नामक सुबाला ने बोया ग्राम के महलों के षडयंत्रों से ठाकुर की रक्षा कर इस पुण्यभूमि को शरणस्थली बनाया। अत: उसके प्रेम और उदात्त एहसान को अक्षुण्ण बनाए रखने के उद्देश्य से स्थापित इस नगर का नाम ‘बाली’ रखा गया। प्राकृतिक सौंदर्य छटा से अभिभूत, धन- धान्य से समृद्धशाली, प्रभावशाली और प्राणों से प्यारी इस धरती को पूज्य पूर्वजों, ऋषि मुनियों ने बाली कहकर पुकारा।

इस प्रकार अनेकों किंवदंतियां प्रचलित हैं। वस्तुत: यदि इस ऐतिहासिक नगर के नामकरण के बारे में प्रचलित सारी किंवदंतियां लिखी जाएं तो ‘पाबूजी की पड’ बन जाए। यहां पांडवों के खेलने के गुल्ली डंडे मौजूद हैं और भीम के बल प्रयोग के चमत्कार का नमूना धरती पर जोर से मारे गए लात से बने गड़्ढे की बावड़ी और एक तालाब। भी मौजूद है। प्राचीन जैन मंदिर में उपलब्ध सं. ११४३ का एक शिलालेख के अनुसार, सोलंकी राजा सिद्धराज जयसिंह उक्त संवत् में महाराजाधिराज जयसिंह का सामंत आश्वाक था, जिसकी रानी की जिविका में बालाही ग्राम था। उस समय पाल्हा के पुत्र वोपणवस्थमन ने बहुधृण देवी के उत्सव के निमित्त चार द्रम दिए। आगे चलकर उसी व्यक्ति द्वारा कुछ अन्य लोगों, कुओं आदि को एक एक द्रम दिये जाने का उल्लेख है। बालाही ग्राम वर्तमान का बाली है (बोलमाता बहुगुणा देवी का मंदिर) (संदर्भ: ओझा निबंध संग्रह (प्रथम भाग) पृष्ठ क्र. २७८)।

दूसरा शिलालेख वि.सं. १२१६, श्रावण वदि- १, ई. सन् ११५९ तारीख ३ जुलाई, शुक्रवार का बाली से मिला हुआ सोलंकी राजा कुमारपालदेव के समय का है। यह यहां के माता के मंदिर के एक स्तंभ पर खुदा हुआ है 

यहां प्रथम नाड़ोल के चौहानों का अधिकार था। बाद में जालोर के सोनगरा सरदारों का और उनके बाद मेवाड के राणाओं का अधिकार रहा। वि.स. १८२६ से १८३३ के लगभग में यहां एक छोटा किला बना, जो कस्बे के पश्चिम में सडक के लगते ही है। १२वीं सदी के बाली जैन मंदिर के शिलालेख। से यहां सोलंकियों के शासन की पुष्टि होती है। इसी से इसकी प्राचीनता प्रकट होती है। बाली नगर और विस्तृत बालिया क्षेत्र की सुरक्षा हेतु नाडोल के राजा बालसिंहजी ने वि. सं. १६०८ में बाली नगर समीप बहनेवाली मिठडी नदी के तट पर दुर्ग (किला) की स्थापना की, जिसे बाद के राजाओं ने समय समय पर विस्तृत और सुदृढ़ किया। एक और जानकारी के अनुसार, इस मुख्य दुर्ग का निर्माण जोधपुर के शासकों ने सन् १५०२ ईसवी में किया था। में करवाया था।

वर्तमान में दुर्ग राजस्थान सरकार के अधीन है। ऐसा भी कहते हैं कि अंग्रेजों के शासनकाल में इस दुर्ग में स्वतंत्रता सेनानियों को बंद रखा गया था, वर्तमान में इसमें सब जेल है। इसके अंदर एक ‘बाहुगण’ माता का प्राचीन मंदिर है, जो शीतला माता के मेले के दिन खुलता है एवं लोग दर्शन करते हैं। मेले के साथ गैर नृत्य भी होता है। स्वराज सत्याग्रह के दौरान बाली के लोकप्रिय स्वतंत्रता सेनानी स्व. श्री छोटमल सुराणा और उनके अनेक सहकर्मियों को इसी किले में नजरबंद रखा गया था।

बाली के विमलपुरा और गांधी चौक स्थित दोनों जिनालय स्थापत्य कला के उत्कृष्ट नमूने हैं और अपनी भव्यता एवं विशालता के लिए प्रसिद्ध है। श्री चंद्रप्रभ जिनालय राणकपुर शैली का गिना जाता है। श्री बाली जैन मित्र मंडल (मुंबई), श्री महावीर जैन युवक मंडल, श्री विमलनाथ जैन सेवा संघ, बाली यंगस्टर ग्रुप, श्री गौशाला पांजरापोल समिति, श्री ओसवाल भोजनशाला समिति, सेसली बोया पूनम ग्रुप आदि संस्थाएं धार्मिक, सामाजिक और सार्वजनिक कल्याण के कार्यों में सक्रिय हैं। नगर में जैन लायब्रेरी और वाचनालय की अच्छी व्यवस्था है। बाली के आधुनिक विकास में जैन समाज का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। अनेक दानवीर जैन परिवारों ने यहां के सर्वांगीण विकास में अपना सर्वस्व अर्पण किया है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

error: Content is protected !!